300 से ज्यादा कोर्सेज अब हिंदी और अन्य भाषाओं में, स्टूडेंट्स कर पाएंगे मनपसंद पढ़ाई

0
188

नई दिल्ली: अगर आप अपनी स्थानीय भाषा में सॉफ्ट स्किल्स डेवलप करना चाहते हैं या पढ़ाई के साथ दूसरे कोर्सेज के जरिए नई स्किल्स सीखना चाहते हैं तो आपके लिए अच्छी खबर है। दरअसल हाल में एचआरडी मंत्रालय ने 300 से ज्यादा ई-कोर्सेज शुरू करने की घोषणा की है। ये कोर्सेज मंत्रालय के पोर्टल स्वयं पर हिंदी सहित उड़िया, तमिल, कन्नड़ जैसी कई स्थानीय भाषाओं मे उपलब्ध होंगे। इस प्लेटफाॅर्म के जरिए स्टूडेंट्स देश के किसी भी हिस्से से एक्सपर्ट फैकल्टी से वीडियो, ऑडियो, प्रिंट माध्यम में पढ़ाई कर सकते हैं।

जुड़ें 22 राज्यों की 76 यूनिवर्सिटी से 
एचआरडी मंत्रालय ने मैसिव ऑनलाइन ओपन कोर्स प्लेटफार्म के तौर पर पिछले साल जुलाई में स्वयं को लॉन्च किया था। पोर्टल को देश के 22 राज्यों की 76 यूनिवर्सिटीज से जोड़ा गया था।

पोर्टल पर टेक्निकल पढ़ाई संभव 
क्लाउड कम्प्यूटिंग, टेक्निकल इंग्लिश फॉर इंजीनियर्स, मैनेजमेंट अकाउंटिंग फॉर डिसीजन मेकिंग, डेटाबेस मैनेजमेंट सिस्टम, एडवर्टाइजमेंट एंड पब्लिसिटी जैसे प्रोफेशनल टेक्निकल सब्जेक्ट्स की पढ़ाई आप स्वयं के जरिए कर सकते हैं।। नए कोर्सेज के लॉन्च होने से स्टूडेंट्स को अब पढ़ाई में भाषाई समस्या का सामना नहीं करना पड़ेगा।

एक्सपर्ट फैकल्टी का गाइडेंस 
आगामी तीन महीनों में शुरू होने वाले इन कोर्सेज को डिजाइन करने का काम आईआईटी दिल्ली और आईआईटी चेन्नई के एक्सपर्ट और फैकल्टी कर रही है। विदेशी यूनिवर्सिटी की एक्सपर्ट फैकल्टी और कोर्सेज को भी इससे जोड़ा जाएगा। इस तरह भारतीय स्टूडेंट्स भी अंतरराष्ट्रीय स्तर की फैकल्टी से टेक्निकल और प्रोफेशनल कोर्स की पढ़ाई कर पाएंगे।

अधिकांश भाषा अंग्रेजी में है उपलब्ध
फिलहाल देश में अधिकांश ऑनलाइन कोर्स अंग्रेजी भाषा में उपलब्ध हैं। ऐसे में हिंदी भाषा में  ऑनलाइन कोर्स पढ़ने की इच्छा रखने वाले विद्यार्थियों के पास ज्यादा विकल्प मौजूद नहीं थे, लेकिन एचआरडी मंत्रालय की इस योजना के बाद युवाओं के लिए नए मौके उपलब्ध होंगे।

ये भी पढ़ें:

रूचि के अनुसार खबरें पढ़ने के लिए यहां किल्क कीजिए

(खबर कैसी लगी बताएं जरूर। आप हमें फेसबुकट्विटर और यूट्यूब पर फॉलो भी करें)