हज सब्सिडी पर ओवैसी का फूटा गुस्सा, कहा- हिंदु धर्म पर बांटे जा रहे राज्यों में करोड़ों रूपये कब बंद करेगी मोदी सरकार

0
189

नई दिल्ली: केंद्र सरकार ने मुसलमानों को झटका देते हुए ये ऐलान किया कि इस साल से हज यात्रा पर मिलने वाली सब्सिडी खत्म कर दी जाएगी। यानी की अब यात्री बिना सरकारी खर्चे के अपनी यात्रा करेंगे। इस फैसले की पुष्ठि करते हुए अल्पसंख्यक मामलों के केंद्रीय मंत्री मुख्तार अब्बास नकवी ने मंगलवार को हज सब्सिडी खत्म करने के सरकार के फैसले की पुष्टि की। सरकार का कहना है कि ये फैसला अल्पसंख्यकों का तुष्टीकरण किए बगैर उनके सशक्तीकरण के एजेंडे के तहत लिया गया है।

हज सब्सिडी खत्म करने के बाद कई मुस्लिम संगठन इसका विरोध कर रहे हैं तो वहीं एआईएमआईएम सांसद असदुद्दीन ओवैसी एक बार फैसले पर राजनीति शुरू कर दी है। मीडिया से बातचीत के दौरान ओवैसी ने कहा, ”इस साल के बजट में जो सो कॉल्ड हज सब्सिडी है वो केवल 200 करोड़ रुपये है। हमारा बजट लाखों-करोडों का है उसमें सिर्फ 200 करोड़ रुपये हज सब्सिडी दी। वैसे ही ये सब्सिडी सुप्रीम कोर्ट के ऑर्डर पर 2022 में खत्म होने वाली थी।”

ओवैसी ने कहा कि ‘क्या सरकार अल्पसंख्यक और खासकर मुस्लिम अल्पसंख्यकों के लिए स्कॉलरशिप की जिन तीन स्कीमों – प्री-मैट्रिक, पोस्ट-मैट्रिक, मेरिट-कम-मीन्स स्कॉलरशिप की हमने मांग की है, उस डिमांड को मानेगी। एक स्कॉलरशिप के लिए 12 लोग फॉर्म भरते हैं, इसलिए हम चाहते हैं कि सरकार इस पर ध्यान दे।’

ओवैसी ने धर्म के नाम पर दूसरे राज्यों में खर्च हो रहे पैसों का जिक्र करते हुए कहा, ”2014 में जो कुंभ मेला हुआ था उसमें 1150 करोड़ रुपये भारत सरकार ने दिया था। 2016 में मौजूदा मोदी सरकार ने 100 करोड़ रुपये मध्य प्रदेश सरकार को सिंहस्थ महाकुंभ के लिए दिये। क्या ये सही है। मध्य प्रदेश सरकार इसके लिए पहले ही 3400 करोड़ खर्च कर चुकी है।

आगे कहा, ”काशी, अयोध्या और मथुरा में टूरिज्म और धर्म के नाम पर काफी पैसा बहाया गया। योगी सरकार ये भी कह रही है कि जो भी मानसरोवर यात्रा पर जाएगा उसे डेढ़ लाख रुपये सब्सिडी दी जाएगी। मेरा सवाल है कि क्या केंद्र सरकार उसे खत्म करेगी? मेरा चैलेंज है उनको।”

उन्होंने ये भी सवाल किया कि कर्नाटक में 2015 में कांग्रेस सरकार ने ये एलान किया कि 20 हजार रुपये हर उस यात्री को दिए जाएंगे जो चारधाम की यात्रा करेगा। क्या कांग्रेस उसे बंद करेगी? ”राजस्थान सरकार ने मंदिरों के जीर्णोद्धार के लिए करोड़ों रुपये खर्च किए। गुजरात की सरकार कई सालों से हिंदू साधुओं को सैलरी दे रही है। डेरा सच्चा सौदा को हरियाणा सरकार ने एक करोड़ रुपये दिए क्या वो सही है।”

सरकार पर पर सवाल उठाते हुए उन्होंने कहा, ”यूपी में बीजेपी की सरकार जो राम की लंबी चौड़ी मूर्ति लगाने जा रही है उसके लिए पैसा कहां से आ रहा है? ये बताया जाए। सरकार का पैसा पूरा इन चीजों में इस्तेमाल हो रहा है, लेकिन 200 करोड़ रुपये के लिए ऐसा बाजा बजाया जा रहा है, लग रहा है जैसे मुसलमानों के लिए बहुत कुछ कर दिये।”

उन्होंने कहा, ”बीजेपी की सरकार और कर्नाटक में कांग्रेस की सरकार टैक्स पेयर का पैसा जिस तरह खर्च कर रही है, मैं 2006 से कह रहा हूं कि हज सब्सिडी के पैसे मुस्लिमों की शिक्षा और मुस्लिम बच्चियों के हित में खर्च किए जाएं। मेरा सवाल है कि क्या सरकार अल्पसंख्यक मंत्रालय को इतना पैसा देगी?”

बता दें मोदी सरकार द्वारा खत्म की हज सब्सिडी से लगभग 1 लाख 75 हजार मुसलमान प्रभावित हुए हालांकि 31 दिसंबर को मोदी अपनी मन की बात में ये घोषणा कर चुके थे कि वह जल्द ही सब्सिडी बंद कर देंगे और बचा हुआ पैसा मुसलमानों की शिक्षा व्यवस्था पर लगाया जाएगा।

ये भी पढ़ें:

रूचि के अनुसार खबरें पढ़ने के लिए यहां किल्क कीजिए

(खबर कैसी लगी बताएं जरूर। आप हमें फेसबुकट्विटर और यूट्यूब पर फॉलो भी करें)