बुलंदशहर हिंसा: गोली लगने से पहले पत्थरबाजी करते दिखा सुमित, देखिए Viral Video

0
81

उत्तर प्रदेश: बुलंदशहर हिंसा के दो दिन बाद बुधवार को सोशल मीडिया पर एक वीडियो वायरल होने लगा जिसमें सुमित को भीड़ के साथ पथराव करते देखे जाने का दावा किया जा रहा है। वीडियो में आप पहले देखेंगे कि एक शख्स वीडियो बना रहा है तो सामने से आते सुमित के हाथों में बड़े-बड़े पथ्तर दिख रहे हैं।

यूपी पुलिस के मुताबिक, बुलंदशहर हिंसा में मारे गए सुमित का नाम भी पुलिस की एफआईआर में नामित 27 लोगों में शामिल था। हिंसा में मारे गए युवक सुमित का वीडियो असली है या इसे एडिट कर वायरल किया जा रहा है, इसकी अभी तक कोई पुष्टि नहीं हो सकी है। हमने यहां सोशल मीडिया फेसबुक पर जो वीडियो वायरल हो रहा है उसे यहां साझा किया गया। आपको बता दें इस वीडियो को व्हाट्सऐप और फेसबुक पर टुकड़ो-टुकड़ो में शेयर किया जा रहा।

वायरल वीडियो में सुमित को पथराव करते देखा गया तीन मिनट के इस वायरल वीडियो में सुमित अन्य युवकों के साथ पुलिस पर पथराव करता नजर आ रहा है। वहीं, वीडियो वायरल होने के बाबत स्याना के पुलिस क्षेत्राधिकारी सत्यप्रकाश शर्मा ने कहा कि ऐसा वीडियो सामने आया है लेकिन इसकी सत्यता की जांच न हो तब तक कुछ कहा नहीं जा सकता है। इसी प्रकार का एक और वीडियो भी सामने आया था जिसमें सुमित भीड़ के साथ मौजूद था और गन्ने के खेत की तरफ बढ़ रहे सुमित के सीने से खून निलकता दिखाई दे रहा था।

बुलंदशहर हिंसा में जान गंवाने वाले सुमित को 10 लाख रु की आर्थिक मदद का ऐलान सीएम योगी द्वारा किया गया था। इसी हिंसा में पुलिस इंस्पेक्टर सुबोध कुमार सिंह की जान भी चली गई थी। दूसरी तरफ एफआईआर में नामित 27 लोगों में शामिल सुमित का नाम हटाने को लेकर पिता का कहना है कि अन्य मांगें भी पूरी होनी चाहिए नहीं तो वो मर जाएंगे लेकिन खाना नहीं खाएंगे।

वायरल वीडियो-

जानकारी के अनुसार, सुमित के परिवार ने सरकार के सामने 4 मांगे रखी इससे पहले सुमित के अंतिम संस्कार के लिए भी परिजन तैयार नहीं थे। परिवार के 5 लाख रुपए के मुआवजे और उसका नाम एफआईआर से हटवाने का प्रशासन ने वादा किया था। इसके बाद ही परिजनों ने अंतिम संस्कार के लिए राजी हुए।

गांव में हर किसी का लाडला था सुमित 
वहीं, इस हिंसा में चिंगरावटी निवासी सुमित की जान गई है। हिंसा के दौरान सीने में गोली लगने के बाद सुमित को मेरठ के एक निजी अस्पताल लाया गया, जहां डॉक्टरों ने उसे मृत घोषित कर दिया। अपने भाई सुमित के साथ गांव से आई विवाहिता बहन बबली का कहना है कि मेरी शादी हापुड़ जिले के कलैनी गांव में दिनेश कुमार से हुई है। हादसे के वक्त वह मायके में ही थी। बबली का कहना है कि सुमित बीए सैकेंड ईयर का छात्र था। वह परिवार में सबसे छोटा था। हम चार बहने हैं और हमारा एक भाई है। सुमित घर के हर सदस्य के साथ ही पूरे गांव की जरूरतमंदों की मदद करता था।

ये भी पढ़ें:

रूचि के अनुसार खबरें पढ़ने के लिए यहां किल्क कीजिए

ताजा अपडेट के लिए लिए आप हमारे फेसबुकट्विटरइंस्ट्राग्राम और यूट्यूब चैनल को फॉलो कर सकते हैं