पत्रकार कल्पेश याग्निक सुसाइड: सलोनी अरोड़ा 11 साल से कर रही थी ब्लैकमेल, FIR दर्ज

0
263

इंदौर: दैनिक भास्कर के वरिष्ठ पत्रकार कल्पेश याग्निक की मृत्यु मामले में इंदौर पुलिस ने मुंबई की एक महिला पत्रकार सलोनी अरोड़ा के खिलाफ एफआईआर दर्ज की है। पहले खबर थी दिल का दौरा पड़ने से मौत हुई है लेकिन अब एक बड़ा और चौंकाने वाला खुलासा हुआ है कि उन्होंने आत्महत्या की है।

पुलिस जांच के मुताबिक, महिला पत्रकार सलोनी अरोड़ा भी भास्कर समूह में ही कार्यरत थी लेकिन कुछ समय पहले उन्हें नौकरी से निकाल दिया गया था। जांच के दौरान प्राप्त हुए सबूतों के आधार पर इंदौर की एमआईजी थाना पुलिस ने सलोनी के खिलाफ धारा 503, 386, 67 आईटी एक्ट की धारा 306 के तहत प्राथमिकी दर्ज की गई है। पुलिस के मुताबिक, महिला पत्रकार सलोनी कल्पेश याग्निक से 5 करोड़ रुपये की मांग कर रही थी और रूपये न देने पर बलात्कार के आरोप में फंसाने की धमकी दे रही थी। खबर तो ये है कि कल्पेश सलोनी द्वारा पिछले 11 सालों से अलग-अलग तरीको प्रताड़ित किए जा रहे थे।

दैनिक भास्कर के समूह संपादक रहे कल्पेश याग्निक के परिजनों ने उनकी मौत को दिल का दौरा मानने से इंकार करते हुए जांच की मांग की थी। इसके बाद पुलिस ने याग्निक के मोबाइल, टैबलेट और कम्प्यूटर को जांच के फॉरेंसिक प्रयोगशाला में भेज दिया था। फॉरेंसिक रिपोर्ट में निकलकर आया कि उन्हें दिल का दौरा नहीं पड़ा बल्कि आत्महत्या की। दरअसल, रिपोर्ट में शरीर के कई हिस्सों की हड्डियां टूटी मिली है।

कल्पेश-सलोनी स्कैंडल नाम से दी धमकी-

खबर है कि कॉल अटेंड ना कर सलोनी कल्पेश को धमकी देती थी कि वो यूट्यूब पर सेक्स स्कैंडल की वीडियो-ऑडियो की लिंक अपलोड कर देगी। यह पर्दाफाश एमआइजी पुलिस की जांच में हुआ है। सलोनी ने ‘कल्पेश याग्निक स्कैंडल’ के नाम से यूट्यूब पर लिंक तैयार किया और उन्हें वाट्सएप पर मैसेज कर कहा कि उनके बीच हुई बातचीत के ऑडियो अपलोड कर बदनाम कर देगी। ये ही नहीं सलोनी ने इसके लिंक कई दोस्तों को ट्वीट कर सेव रखने को भी कहा, कि जब वक्त पड़े तो वह उन्हें सोशल मीडिया पर वायरल कर दें। कल्पेश सलोनी से मिल रही धमकियों को बर्दाश्त नहीं कर पाए और उन्होंने खुदकशी कर ली।

आत्महत्या से एक दिन पहले दी पुलिस को चिट्टी-
डीआइजी हरिनारायणचारी मिश्र के मुताबिक याग्निक ने मौत के कुछ दिनों पूर्व एडीजी अजय शर्मा को छह पन्ने का सूचना पत्र दिया था। इसमें उन्होंने कहा था कि सलोनी उनके खिलाफ दुष्कर्म का केस दर्ज करवा सकती है। सलोनी द्वारा शिकायत करने पर उनका भी पक्ष सुना जाए। उनके सहयोगी द्वारा अंग्रेजी में टाइप किए गए पत्र में उन्होंने यह भी लिखा कि सलोनी पांच करोड़ की मांग कर ब्लैकमेल कर रही है। पत्र में इस बात का भी जिक्र था कि सलोनी को प्रबंधन ने नौकरी से हटा दिया है। वह दोबारा नौकरी पर रखने की मांग कर दबाव बना रही है। डीआइजी के मुताबिक उन्होंने उस वक्त सलोनी के खिलाफ कार्रवाई की मांग नहीं की, बल्कि सूचना मात्र दी थी। हालांकि अब पुलिस ने इस पत्र को सुसाइड नोट मानकर जांच में शामिल कर लिया है।

क्या है 11 सालों कहानी-
भड़ास मीडिया पर छपी एक खबर के अनुसार, कल्पेश याग्निक से पहले पच्चीस लाख रुपये की मांग की। जब ये रुपए मिलने वाले थे तो उसने डिमांड एक करोड़ रुपये की कर दी। एक करोड़ देने की जब तैयारी की जाने लगी तो वह पांच करोड़ रुपये मांगने लगी। पांच करोड़ की डिमांड देखकर कल्पेश याग्निक ने पैसे देने से मना कर दिया। सलोनी अरोड़ा ग्यारह साल से कल्पेश याग्निक को ब्लैकमेल कर रही थी। ये सारे खुलासे पुलिस जांच में हुए हैं।

नीमच से मुबंई तक छापे-
शुक्रवार देर रात 3 बजे इंदौर पुलिस ने नीमच स्थित सलोनी के घर पर छापा मारा। वहां नहीं मिलने पर रतलाम स्थित बहन के घर छापा मारा लेकिन कोई सुराग नहीं मिला। अंत में पुलिस ने मुबंई स्थित फ्लैट में छापा मारा। पुलिस ने पासपोर्ट जब्त कर लिया है। खबर है कि सलोनी कल्पेश से पैसे लूटने के बाद दिल्ली में एक फिल्म डिस्ट्रीब्यूटर के साथ विदेश भागने की फिराक में थी। लेकिन कल्पेश की आत्महत्या ने सलोनी के सारे इरादों पर पानी फेर दिया।

फिलहाल सलोनी अभी फरार है और मामले ने सोशल मीडिया पर तूल पकड़ लिया है। वहीं पुलिस ने सलोनी अरोड़ा के खिलाफ लुकआउट सर्कुलर जारी कर दिया है।

ये भी पढ़ें:

रूचि के अनुसार खबरें पढ़ने के लिए यहां किल्क कीजिए

ताजा अपडेट के लिए लिए आप हमारे फेसबुकट्विटरइंस्ट्राग्राम और यूट्यूब चैनल को फॉलो कर सकते हैं