बड़ा खुलासा: Facebook ने फिर दिया यूजर्स को धोखा, इस App के जरिए चुराया निजी डेटा

0
112

टेक डेस्क: सोशल यूजर्स के निजी डाटा पर नजर रखने वाली फेसबुक ने यूजर्स की प्राइवेसी का एकबार फिर से उल्लंघन किया है सीएनबीसी की रिपोर्ट के मुताबिक, फेसबुक ने यूजर्स को ऐसी ऐप इंस्टॉल करने के लिए भुगतान किया, जिसके जरिए कंपनी ने उनका डेटा हासिल किया।

खुलासा होने पर फेसबुक के एक प्रवक्ता ने इस बात को माना है कि उनकी कंपनी लोगों के डेटा इकट्ठा करने के लिए प्रोग्राम चला रही है। फेसबुक के प्रवक्ता ने सीएनबीसी को बताया, “कई कंपनियों की तरह हम भी लोगों को रिसर्च में भाग लेने के लिए आमंत्रित करते हैं।

इसके जरिए हम ये जानने की कोशिश करते हैं कि हम और क्या बेहतर कर सकते हैं?” उन्होंने बताया कि, “इस रिसर्च के जरिए फेसबुक ये समझने की कोशिश करता है कि लोग अपने मोबाइल का इस्तेमाल कैसे करते हैं?” हालांकि, प्रवक्ता ने ये भी बताया कि इस डेटा को दूसरों के साथ साझा नहीं किया जाता और लोग जब चाहें तब इस रिसर्च से हट सकते हैं।

सीएनबीसी के अनुसार, सबसे पहले इसका खुलासा टेकक्रंच ने अपनी रिपोर्ट में किया। टेकक्रंच की रिपोर्ट के मुताबिक, फेसबुक ने कथित तौर पर एंड्रॉयड और आईओएस यूजर्स को उनके डिवाइस में ‘फेसबुक रिसर्च’ ऐप इंस्टॉल करने के लिए 2016 से लेकर अब तक हर महीने यूजर्स को 20 डॉलर (करीब 1400 रुपए) के साथ-साथ रेफरल फीस भी दी। इस रिपोर्ट में ये भी कहा है कि, फेसबुक ने इन सबमें अपनी सीधी भागीदारी दिखाने से बचने के लिए ‘ऐपलॉज’, ‘बीटाबाउंड’ और ‘यूटेस्ट’ जैसे प्रोग्राम चलाए, जिसे ‘प्रोजेक्ट एटलस’ नाम दिया गया।

इस ऐप्स से यूजर का निजी डेटा हासिल किया
टेकक्रंच ने अपनी रिपोर्ट में एक सिक्योरिटी एक्सपर्ट के हवाले से लिखा है कि, फेसबुक रिसर्च ऐप की मदद से फेसबुक ने यूजर्स का निजी डेटा हासिल किया। जिसमें सोशल मीडिया ऐप्स के निजी मैसेज, फोटो, वीडियो, ईमेल, वेब सर्च और वेब ब्राउजिंग एक्टिविटी जैसी निजी जानकारी शामिल है। इस रिपोर्ट में ये भी कहा गया है कि, इस ऐप की मदद से फेसबुक ने यूजर के फोन में इंस्टॉल अन्य लोकेशन ट्रैकिंग ऐप्स के जरिए उनकी लोकेशन की जानकारी भी ट्रैक की।

आपको बता दें, फेसबुक के इस कदम से  एपल की पॉलिसी का उल्लंघन भी हो रहा है क्योंकि कुछ आईफोन यूजर्स भी इस ऐप को अपनी डिवाइस में इस्टॉल कर रहे हैं। एपल ने पिछले साल फेसबुक की ओनावा सिक्योरिटी ऐप को ऐप स्टोर से हटाया था क्योंकि ये एपल की प्राइवेसी पॉलिसी का उल्लंघन कर रही थी। एपल ने इस ऐप को हटाते समय कहा था कि, किसी भी ऐप को यूजर के फोन में इंस्टॉल दूसरी ऐप के बारे में जानकारी नहीं लेनी चाहिए।

ये भी पढ़ें:
पांच दिन बाद 50 करोड़ के पार पहुंचा मणिकर्णिका कलेक्शन
युवा राष्ट्रनिर्माण में बाधक या साधक
Honor View 20 की Amazon पर शुरू हुई सेल, मिल रहे स्मार्टफोन पर ये शानदार ऑफर
कम्प्यूटर ऑपरेटर के लिए 107 पदों पर निकली भर्तियां, जल्द करें अप्लाई
अगर हिंसा पर उतरी BJP तो मई-जून से पहले हो सकते हैं दंगे: रिपोर्ट
विकास की और बढ़ते भारत के सामने प्रमुख चिन्ताएं
आखिर क्यों मर्दों से बचाने के लिए गर्म पत्थर से करते हैं लड़की की ‘ब्रेस्ट आयरन’, देखें तस्वीरें

ताजा अपडेट के लिए लिए आप हमारे फेसबुकट्विटरइंस्ट्राग्राम और यूट्यूब चैनल को फॉलो कर सकते हैं

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here