इंदिरा गांधी की हत्या के बाद प्रियंका को छोड़नी पड़ी थी पढ़ाई, जानिए उनके व्यक्तित्व से जुड़ी अन्य बातें

0
85

नई दिल्ली: प्रियंका गांधी देश के सबसे बड़े राजनीतिक परिवार की ऐसी सक्रिय सदस्य हैं जो पर्दे के पीछे रहकर अपने भाई राहुल गांधी और मां सोनिया गांधी का सहयोग करती रही हैं। बहुत ना-ना करते करते हुए कांग्रेस में प्रियंका गांधी की एंट्री बुधवार को पूर्वी उत्तर प्रदेश का महासचिव और प्रभारी बनाया गया है।

राजनीतिक जानकारों का कहना है कि लोकसभा चुनावों से पहले प्रियंका की एंट्री कई सकेंत और सवाल खड़े करते हैं। सवाल ये की क्या ये प्रियंका गांधी का राजनीति में आने का सही समय या फिर कुछ कारण। खैर जो भी हो इसका क्या फायदा और नुकसान होता है ये जनता और पार्टी दोनों आने वाले दिनों में तय कर ही लेगें। चलिए नजर डालते हैं आखिर क्यों प्रियंका गांधी का व्यक्तित्व राजनीति में नहीं रहने पर भी इतना प्रभावशाली बना रहा इसके साथ उनकी निजी जिंदगी के उन पहलूओं को साझा करेंगे जो शायद आप अभी तक नहीं जानते होंगे।

इंदिरा गांधी के कारण छूटी पढ़ाई
प्रियंका गांधी का जन्म 12 जनवरी 1972 को हुआ। वो राहुल गांधी से 2 साल छोटी हैं। प्रियंका गांधी ने मार्डन स्कूल, कॉन्वेंट ऑफ जीसस एंड मैरी कॉ़लेज से पढ़ाई की है। वो दिल्ली यूनिवर्सिटी से सायकॉलजी में ग्रेजुएट हैं। दादी इंदिरा गांधी की हत्या के बाद राहुल और प्रियंका ने अपनी पढ़ाई घर से ही जारी रखी। इसके बाद उनकी सामजिक जिंदगी बहुत सिमट गई। उन्हें 24 घंटे सुरक्षाकर्मियों के साये में रहना पड़ता था।

ये भी पढ़ें: लोकसभा चुनाव 2019: राहुल ने खेला बड़ा दांव, बहन प्रियंका गांधी को दी बड़ी जिम्मेदारी
इंदिरा छवि प्रियंका गांधी
प्रियंका में लोगों को इंदिरा की छवि नजर आती है। चाहे उनकी हेयरस्टाइल हो या फिर बात करने का तरीका। यहां तक की कहा जाता है कि प्रियंका का स्वभाव इंदिरा की तरह ही मिलनसार है। ये ही नहीं प्रियंका अपने पति रॉबर्ट वाड्रा से 13 साल की उम्र में मिली थीं। करीबी बताते हैं कि प्रियंका ने ही रॉबर्ट की तरफ दोस्ती का हाथ बढ़ाया था। 6 साल तक एकसाथ रहने के बाद प्रिंयका ने रॉबर्ट के बारें में अपने घर पर बताया जिसके बाद उनके घर वालों ने इस रिश्ते के लिए विरोध किया लेकिन वह भी अपनी दादी के समान अड़ी रही और प्यार के लिए अपने परिवार को मनाकर छोड़ा। बता दें प्रियंका के दो बच्चे हैं।

ये भी पढ़ें: बच्चों के शौक को पूरा करने लिए बनाया पिता ने ‘क्यूट’ ऑटो, अब हुआ Video वायरल
प्रियंका गांधी का निजी व्यक्तित्व
प्रियंका गांधी को कुकिंग, फोटोग्राफी और किताबें पढ़ने का शौक है। प्रियंका गांधी के बच्चे अपनी मां को प्यारी लेकिन एक सख्त टीचर जैसा बताते हैं। वो बच्चों के लिए खुद खाना बनाती हैं। यहां तक की प्रिंयका एक अच्छी वक्ता होने साथ एक अच्छी आर्गेनाइजर और अनुशासनप्रिय इंसान है। प्रिंयका ने एक इंटरव्यू में बताया था कि उन्होंने 16 साल की उम्र में अपना पहला भाषण दिया था।

आपको बता दें कि चुनाव से ठीक पहले प्रियंका को कांग्रेस पार्टी में महासचिव बनाने को मास्टर स्ट्रोक बताया जा रहा है. जनता और कांग्रेस पार्टी के कार्यकर्ताओं पर इसका अच्छा असर पड़ सकता है।

ताजा अपडेट के लिए लिए आप हमारे फेसबुकट्विटरइंस्ट्राग्राम और यूट्यूब चैनल को फॉलो कर सकते हैं